Vishnu Sahasranamam Pdf Download in Hindi wih Lyrics

Vishnu Sahasranamam को आप यदि डाउनलोड करना चाहते है तो आप हमारे इस वेबसाइट से डाउनलोड कर सकते है ! तथा आप हमारे इस वेबसाइट से Vishnu Sahasranamam के बारे में विस्तृत जानकारी ले सकते है !

Vishnu Sahasranamam

what is Vishnu Sahasranamam

Vishnu Sahasranamam स्त्रोत्र से सुमिरन मात्र से ही जन्म मरण के बंधन से मुक्त हो जाता है जो सर्व समर्थक और सर्वव्यापी है उन भगवान विष्णु को हम नमस्कार करते हैं !

Vishnu Sahasranamam Lyrics in Hindi

  • जो सर्व समर्थक और सर्वव्यापी है उन भगवान विष्णु को हम नमस्कार करते हैं !
    वैसपायान जी महाराज बोले सभी पुनीत धर्मों को शांतनु पुत्र भीष्म पितामह से भली प्रकार सुनकर युधिष्ठिर ने पुनः पूछा युधिष्ठिर जी ने पूछा इस सृष्टि में सभी फलों के दाता सर्व पूज्य देव कौन है अथवा प्राप्त करने योग्य सर्वोत्तम कौन है उसकी वंदना व पूजा से जीव यह लोग व परलोक में श्रेष्ठ फल पाता है !
  • सभी धर्मों में कौन सा धर्म सर्वश्रेष्ठ है तथा किस का जप करते हुए प्राणी जन्म रूपी सागर के बंधन से मुक्त होता है !
    तब यह सब सुनकर भीष्म पितामह बोले प्राणी जागकर जगत के पति देवों के देव आनंद पुरुषोत्तम की हजार नामों से स्तुति करता हुआ भक्ति पूर्वक उन्हीं देव का नित्य अर्चन तूती ध्यान भजन वंदना करता हुआ तीनों प्रकार के पापों से मुक्त हो जाता है ,सभी धर्मों के ज्ञाता है प्राणियों की यश वृद्धि करने वाले सृष्टि के स्वामी शब्द स्वामी सर्व देश है, व समस्त जीवों की उत्पत्ति के कारण है ,संपूर्ण धर्मों में यह धर्म है कि श्रेष्ठ प्राणी भगवान विष्णु का पूजन करें तो श्रेष्ठ तेज विश्वर्या रूप है जो सत्य रूप से पूजने योग्य भ्रम है ,जो परम नीति तथा मुख्य रूप है !
  • जो में पवित्रा ,भव्य में भव्य, देवों में परम देव ,जीवो में अव्यय पिता है, कलप रंभ में समस्त जीव जिनसे प्रकट होते हैं, और कलपात में पुनः उन्हीं में विलीन हो जाते हैं ! अनुरूप जगत के स्वामी और सृष्टि प्रमुख उन भगवान विष्णु के पाप व भय नाशक सहस्त्रनाम को मुझसे सुन !
  • उन महात्मा के गुण कर्म के अनुसार जो नाम है अथवा जिनके उपरोक्त व परोक्ष पर अस्तित्व ऋषि-मुनियों द्वारा गाए गए नाम है उनको मैं धर्म अर्थ काम और मोक्ष के लाभार्थी तुझे कहता हूं !
  • श्री महा विष्णु सहस्त्रनाम स्तोत्रम ओम विष्णु ओम विष्णु रट का रोबोट भव्य भगत प्रभु बहुत क्रुद्ध भूत भूत भूत बाबा भूत आत्मा भूत भावन हो !
  • अर्थात जो सृष्टि के कारण भूत है जो सब में व्याप्त है ,जो यज्ञ रूप है, जो तीनों कालो भूत वर्तमान और भविष्य के सुख भोग से युक्त है, जो रजोगुण तमोगुण के आधार पर सृष्टि की संरचना वर्ष हार करने वाले ब्रह्मा व रूद्र रूप है, जो सतोगुण से सृष्टि के धारक व पोषण करता विष्णु रूप है ,जो भाव रूप है जो जीवो के ह्रदय में आत्मा रूप से रहते हैं जो जीवो के उत्पत्ति करता है !
  • परमात्मा चमकता नाम परम गति का अब यहां पूर्व शहर साक्षी क्षेत्र उद्योग सराय वजह !
  • अर्थात, जो पवित्र आत्मा रूप है जो मुक्त स्वभाव से युक्त है जो संसार बंधन से मुक्त है जीवो के लिए ,जो अंतिम आश्चर्य है जो अविनाशी है ,जो पुरुष रूप है यानी सृष्टि के क्रियाकलापों के शक्ति रूप है जो शरीर के ज्ञाता हैं, जिनका सब कभी है यानी नाश नहीं होता अथवा जो अक्षर यानी ब्रह्म रूप है योगा !
  • योगा योग विदाम नेता प्रधान पुरुष ईश्वर हे नरसिंह वपु श्रीमान केशव: पुरुषोत्तम: !
  • अर्थात जो योग रूप है यानी जो ज्ञान इंद्रियों और मन से जीव आत्मा परमात्मा में समान भाव रखते हैं, !
  • योग्य विदा: नेता:
  • जो योग को जानने वालों में श्रेष्ठ योगी है ,जो प्रकृति व पुरुष के स्वामी है, जो मनुष्य में सिह रूप , है जो लक्ष्मी से सपन्न है, उस सुंदर के केश धारी है, अथवा जिन्होंने केशी नामक राक्षस का वध किया था ,तभी से उनका नाम के केशव हुआ, जो पुरुषों में श्रेष्ठ है अथवा जो शुद्ध ब्रह्म स्वरूप है !

Download Vishnu Sahasranamam

डिस्क्लेमर :- Viral Seva किसी भी प्रकार के पायरेसी को बढ़ावा नही देता है, यह पीडीऍफ़ सिर्फ शिक्षा के उद्देश्य से दिया गया है! पायरेसी करना गैरकानूनी है! अत आप किसी भी किताब को खरीद कर ही पढ़े ! इस लेख को अपने दोस्तों के साथ भी जरुर शेयर करे !

Vishnu SahasranamamBuy on Amazon

Leave a Comment