Vish Kanya Book Pdf Download in Hindi

Vish Kanya उस स्त्री को कहा जाता है जिसे थोडा थोडा जहर देकर जहरीला बना दिया जाता है !बहुत सरे लोगो के दिमाग में ऐसा होता है की Vish Kanya आधी इन्सान और आधी नागिन होता है ! जैसे की tv सिरिअल में दिखाया जाता है लेकिन विषकन्या उससे हट कर बहुत ही अलग चीज है ! यह एक जासुश की तरह काम करता था वो भी इतनी सफाई से की किसी को भनक तक ना लगे !

Vish Kanya

उसका मुख्या कार्य शत्रु राज्यों को हत्या करना होता था !और इस को अंजाम देने के लिए उसे जहरीले जिव जंतु के साथ बाच्पन से ही रखा जाता था ! उसे नित्य संगीत की पूरी शिक्षा दी जाती थी ! और उसे छल विद्या में भी माहिर कर दिया जाता था !

भारत के बहुत से मंदिर की दीवारों पर विश कन्यायो का शिल खुदबाए हुए हैं ! भारत में हजारों साल पुरानी प्राचीन मंदिरों पर भी हमें सुन्दर विश कन्या का चित्र मिलता है , भारत में औषधि विज्ञान , विश्वविद्यालय विज्ञान और विषकन्या तंत्र काफी विकसित हो गया था ! आचार्य चाणक्य और सिकंदर के समय पर तो इस भारत के विज्ञान में सबसे ज्यादा ऊंचाई प्राप्त की हुई थी कल्कि पुराण में भी विषकन्या योग का वर्णन किया गया है !

Vish Kanya कितनी खातारनाक होती है

लोग कहते है की उस लोगो सवधान रहना चाहिए जो धोखेबाज हैं लेकिन विषकन्या के पास दोनों चीज चीज है उसका मन भी धोखेबाज और ऊपर से वो जहरीला ही होती है ! तो आप समझ सकते की कितना घातक हो सकती है ! विष कन्या का काम ही हत्या करना होता था , ये जिसका भी जान लेना चाहती थी उसके शारीर में जहर को मिला दिया करती थी !

विषकन्या को बचपन से हलकी मात्रा में जहर दिया जाता था इस वजह से उसके शारीर में जितने भी पदार्थ हो वो सब जहरीले होते थे लाइक -आंसू हो या पशीना सब कुछ जहरीला होता था ! ये लडकिय इतने जहरीले होते थे की इनका जूठा खाना भी कोई खाले तो उसका मरना निश्चित है !

Vish Kanya कैसे काम करती थी

ये विषकन्या राजा को अपने जाल में फंषा लेती थी क्योकि दिखने में काफी खुबसूरत हुआ करती थी ! और इन्हें किसी भी मर्द को रिझाने में माहिर कर दिया जाता था ! और जैसे ही कोई राजा या कोई व्यक्ति इसके सम्पर्क आता था ! ये जहर उसके शरीर में डाल देती थी और उसका मृत्यु हो जाता था !

पुराण के अनुसार चित्र गंधर्व की पत्नी सुलोचना एक खतरनाक विषकन्या थी, चाणक्य की गुप्त द्वारा लिखी अर्थशास्त्र में भी उल्लेख किया गया है जैनों के प्राचीन साहित्य में एक ग्रंथ है इसका नाम रजौली कथा है उसमें एक कहानी है ! जो हमें आज भी आश्चर्यचकित कर दे देता है कहानी इस प्रकार है ! आचार्य चाणक्य ने चंद्रगुप्त आयु बढ़ाने हेतु विश कन्याओं से और अन्य लोगों से रक्षा करने हेतु उसके खाने में हर रोज थोड़ा थोड़ा सिद्ध किया हुआ जहर , वैज्ञानिक तरीके से मिलाना शुरू किया लेकिन इस बात का पता चंद्रगुप्त को नहीं था! एक उसकी पत्नी जो 9 माह की गर्भवती थी उसके पास जाकर बैठ गई , चंद्रगुप्त ने प्यार से ही एक निवाला उसे खिला दिया ! और उसकी पत्नी की मिर्त्यु हो गया ! लेकिन उसका बेटा बच गया जिसका नाम बिन्दुसार रखा गया ! और वो मगध का राजा बना !

Download Vish Kanya Book

डिस्क्लेमर :- Viral Seva किसी भी प्रकार के पायरेसी को बढ़ावा नही देता है, यह पीडीऍफ़ सिर्फ शिक्षा के उद्देश्य से दिया गया है! पायरेसी करना गैरकानूनी है! अत आप किसी भी किताब को खरीद कर ही पढ़े ! इस लेख को अपने दोस्तों के साथ भी जरुर शेयर करे !


Download Vish KanyaBuy on Amazon

Leave a Comment