Garud Puran Book Pdf Download in Hindi

Garud Puran हिंदू धर्म के प्रसिद्ध धार्मिक ग्रंथों में से एक है , यह पुराण अठारह पुराणों में से एक माना जाता है ! गरुड़ पुराण में मनुष्य के जीवन को लेकर कई गूढ़ बातें बताई गई है ! Garud Puran में स्वर्ग नर्क भावपूर्ण के अलावा भी बहुत कुछ है उसमें ज्ञान विज्ञान नीति नियम और धर्म की बातें हैं ! गरुड़ पुराण में एक और जहां मौत का रहस्य है तो दूसरी ओर जीवन का रहस्य छिपा हुआ है !

Garud Puran

Garud Puran क्या है?

गरुड़ पुराण से हमें कई तरह की शिक्षा मिलती है, गरुड़ पुराण में मृत्यु के पहले और बाद की स्थिति के बारे में बताया गया है परंतु अक्सर इस पुराण के बारे में सुनने को मिलता है ! कि किसी भी जीवित मनुष्य को इसे नहीं पढ़ना चाहिए इतना ही नहीं है अधिकतर लोगों के मन में यह भाई बैठा दिया गया है ,कि अगर कोई जीवित मनुष्य किस पुराण को पड़ता या अपने पास रखता भी है तो उसके जीवन में हर समय अशोक घटनाएं घटती रहती है ! लेकिन दर्शकों की माने तो ऐसा नहीं है क्योंकि आज हम गरुड़ पुराण के बारे में आपको एक ऐसा रहस्य बताने वाले हैं जिसे जाने के बाद आप इस भय से मुक्त हो जाएंगे कि जीवित मनुष्य को यह पूरा पढ़ना चाहिए कि नहीं !

गरुड़ पुराण में भगवान विष्णु और उनके वाहन गरुड़ के बीच बातों का वर्णन किया गया है मित्र अक्सर देखने को मिलता है ! कि जब किसी परिवार में किसी की मृत्यु हो जाती है या कोई मृत्यु शैया पर होता है तो करोड़ का पाठ कराया जाता है ,और यही सब देखकर लोगों के मन में भय घर-घर जाता है कि जीवित मनुष्य गरुड़ पुराण का ना तो पाठ कर सकता है और ना ही इसे अपने पास रख सकता है !

जीवित मनुष्य Garud Puran पढ़े !

गरुड़ पुराण के शुरुआत में ही इसके पाठ करने से संबंधित महात्मा के बारे में बताया गया है ! जिसके अनुसार यदि कोई जीवित मनुष्य अपने जीवन में इस पवित्र पुराण का पाठ करता है ! तो विद्या यश सौंदर्य लक्ष्मी विजय और आरोपी आदि के विषय में ज्ञान की प्राप्ति होती है जो मनुष्य का नियमित पाठ करता है या सुनता है ! बस सब कुछ जान जाता है और अंत में उसे स्वर्ग की प्राप्ति होती है जो मनुष्य का ग्रसित होकर इस महा पुराण का पाठ करता है ,सुनता है अथवा सुनाता है उसको लिखता है अथवा लिखाता है या पुस्तक के ही रूप में इसे अपने पास रखता है !

यदि धर्म आरती है तो उसे धर्म की प्राप्ति होती है और यदि वह अर्थ का अभिलाषी है तो अर्थ प्राप्त करता है, जिस मनुष्य के हाथ में यह महापुराण विद्यमान है ! उसके हाथ में ही नीतियों का भंडार है जो प्राणी इस पुराण का पाठ करता है यश को सुनता है वह भोग और मोक्ष दोनों को प्राप्त कर लेता है !

Garud Puran इच्छा का प्राप्ति !

सुनने से मनुष्य के धर्म अर्थ काम और मोक्ष इन चारों पुरुषार्थ ओं की स्थिति हो जाती है ! इस महापुराण का पाठ करके या इसको सुनकर पुत्र चाहने वाला पुत्र प्राप्त करता है तथा कामना की इच्छुक अपनी कामना प्राप्ति में सफलता प्राप्त कर लेता है बंद है यानी जिस स्त्री को संतान सुख ना मिला हो वह पुत्र ,कुंवारी कन्या अच्छा बर, भूख जाने वाला भूख प्राप्त करता है ! विद्यार्थी को विद्या , विजय घोष को विजय ब्रह्महत्या ,आदि से युक्त पापी बाप से विशुद्धि को प्राप्त होता है !

पक्षी श्रेष्ठ गरुड़ के द्वारा कहा गया यह गरुड़ पुराण धन्य है यह तो सब का कल्याण करने वाला है जो मनुष्य शिव महापुराण की एक श्लोक का पाठ करता है ! उसकी अकाल मृत्यु नहीं होती इसलिए मात्र आधे श्लोक का पाठ करने से निश्चित ही शत्रु का शव जाता है इसलिए यह गरुड़ पुराण मुख्य और शास्त्र सम्मत पुराण है ! भ्रष्ट धर्म के प्रदर्शन में गरुड़ पुराण के समान कोई दूसरा पुराण नहीं है जैसे देशों में चलाते श्रेष्ठ हैं वैसे ही पुराणों में गरुड़ पुराण हरि के तत्व निरूपण में मुख्य कहा गया है !

रामेश्वरी ही प्रतिपाद्य है इसलिए हरि ही नमस्कार करने योग्य हैं, हरि शरण है और वे हरि ही सब प्रकार से सेवा करने योग्य है ! यह गरुड़ पुराण बना ही पवित्र और पुणे दायक है यह सभी पापों का विनाश एवं सुनने वालों की समस्त कामनाओं का पूरक है ! इसका सदैव श्रवण करना चाहिए जो मनुष्य महापुराण को सुनता है इसका पाठ करता है यह निष्पाप होकर यमराज की भयंकर यात्राओं को तोड़कर स्वर्ग को प्राप्त करता है !

Download Garud Puran Book

डिस्क्लेमर :- Viral seva किसी भी प्रकार के पायरेसी को बढ़ावा नही देता है, यह पीडीऍफ़ सिर्फ शिक्षा के उद्देश्य से दिया गया है! पायरेसी करना गैरकानूनी है! अत आप किसी भी किताब को खरीद कर ही पढ़े ! इस लेख को अपने दोस्तों के साथ भी जरुर शेयर करे !

Download Garud Puran BookBuy on Amazon

निष्कर्ष

तो दोस्तों अब आप ही बताइए कि यह कैसे संभव है कि अगर कोई मनुष्य अपने जीवन काल में इस पवित्र पुराण का नियमित पाठ करता है ,तो उसके साथ कोई अशोक जी सर मेरी मां ने तो यह भ्रम है ! और कुछ भी नहीं इसलिए बिना किसी भय के अगर संभव हो तो इस पवित्र पुराण का नियमित पाठ करें और अपने जीवन को खुशहाल बनाएं !


Leave a Comment